ऐ महोब्बत शरम से डूब मर,

तू एक शख्श को मेरा ना कर सकी।

Advertisements