हर “जुर्म” पे उठती हैं उँगलियाँ मेरी तरफ,

क्या “मेरे” सिवा शहर में “मासूम” हैं सारे।

Advertisements