बरसों सजाते रहे हम किरदार को मगर
कुछ लोग बाज़ी ले गए, सूरत सँवार कर !!

Advertisements